8वीं कक्षा की छात्रा ने लिखा भावुक पत्र..।

​BREAKING NEWS

राजस्थान:में रहने वाली 8 साल की छात्रा ने पीसीपीएनडीटी मिशन निदेशक को भावुक होकर पत्र लिखा है। उसने कहा है कि अब लाखों लड़कियां जन्म ले सकेंगे। यह निदेशक बेटियों को बचाने के लिए काम कर रहे हैं।

दरअसल पीसीपीएनडीटी मिशन निदेशक नवीन जैन ने राजस्थान में गर्भ में भ्रूण के लिंग की जांच कर कन्या भ्रूण हत्या का जघन्य अपराध करने वालों को सलाखों के पीछे पहुंचाया है। इस मामले में तीन दलालों को गिरफ्तार किया गया है। इस कार्रवाई से खुश होकर  श्रीगंगानगर की 8वीं की छात्रा रिया मित्तल ने भावुक पत्र लिखकर धन्यवाद दिया है।

इस पत्र के जरिए छात्रा रिया ने एमडी नवीन जैन को अब तक राजस्थान में अलग-अलग शहरों में 60 सफल डिकॉय ऑपरेशन कर आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल पहुंचाने पर बधाई दी है। उसने बेटियों की गर्भ में हो रही हत्या रोकने के प्रयासों के लिए मिशन निदेशक का आभार जताया है।

छात्रा ने लिखा है कि आपके प्रयासों से मुझ जैसी हजारों बेटियां जन्म ले सकीं और आगे भी जन्म लेंगी। इससे हमारे समाज में घटते लिंगानुपात को नियंत्रित करने में सफलता मिलेगी। रिया मित्तल ने पीसीपीएनडीटी सेल के समुचित प्राधिकारी नवीन जैन को पत्र में लिखा, सर- बेटियां किसी माता-पिता की टेनशन नहीं होती बल्कि वे तो टेन सन अर्थात दस बेटों के बराबर होती हैं। अगर बेटियों के प्रति समाज अपना नजरिया बदले तो वे बेटों से बढ़कर समाज को योगदान कर सकती हैं।

उसने लिखा है कि बेटियां मां-बाप का अभिमान और गौरव होती हैं। बेटियों को गर्भ में ही मारने वालों को आप कभी माफ मत करना। ऐसे लोगों की समाज में कोई जरूरत नहीं है।

Advertisements
Categories: